loading...

तजो अविधा नींद, इब तो जाग जा ने तूँ-Kabir Ke Shabd-tajo avidhaa nind, eb to jaag jaa ne tun।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
तजो अविधा नींद, इब तो जाग जा ने तूँ।
तू दाग जिगर का धोले, दिन दिन घटता आवे भोल।
किसी वैध हकीम ने टोह ले जल्दी भाग जा ने तूं।।

पी के राम नाम की भंग ने, चढ़ जा नशा देख ले रंग ने।
तूँ तज दे नीत कुसंग ने, बिलकुल त्याग जा ने तूँ।।

मन प्रधान पांच है नारी, दिन भर होती फिरें ख्वारी।
सत्संग में डट जा सारी, नेड़े लाग जा ने तूँ।।

कह हरिदास रो मत खाली, जग में क्र ले तूँ धर्म दलाली।
सत्त की भर ले रफल दुनाली, बेशक दाग जा ने तूँ

कोई टिप्पणी नहीं