loading...

कुछ बाते अपने लिए भी - Some motivational thoughts for yourself too.

Share:

कुछ बाते अपने लिए भी।

कभी किसी की कमियां न देखे और नहीं कभी किसी को न बताएँ, लेकिन खुद अपनी कमियाँ जरूर स्वीकार करें, क्योंकि जबतक आप खुद अपनी कमी नहीं स्वीकार करेंगे; तबतक आप उसे दूर करने की कोशिश नहीं करेंगे. और याद रखिये एक छेद भी नाव को डुबाने के लिए काफी होती है.
कमी – असफलता का द्वार
अपनी कमियां दूसरों को बताने पर बहुत कम लोग हमारी कमी को दूर करने में हमारी मदद करते हैं, ज्यादातर लोग हमारा मजाक उड़ाते हैं या हमारी कमजोरी का फायदा उठाना चाहते हैं. लेकिन हमें ऐसे लोगों के साथ शेयर करनी चाहिए, जो हमारी मदद कर सकते हैं.
बहुत बार ऐसा होता है कि हम अपनी कमजोरियों से दूर भागने लगते हैं, उन्हें देखकर भी अनदेखा करते हैं और यह बात भूल जाते हैं कि वह हमें हीं नुकसान पहुंचाएगी. और नतीजा यह होता है कि हमारी यह आदत हमें हीं नुकसान पहुँचाने लगती है.
हमें अपनी कमजोरियों का गहराई से निरिक्षण करना चाहिए और वक्त रहते उन्हें दूर करने के लिए पर्याप्त कदम उठाने चाहिए, इससे पहले कि हमारी कमजोरियाँ हमें किसी विकट परिस्थिति में डाल दें.
दुनिया की भीड़ में आगे बढ़ने के लिए हमें खुद रास्ता बनाना पड़ता है. कदम-कदम पर दुनिया मुश्किलें खड़ी करती है, उन्हें हटाना हमें हीं पड़ता है. और-तो-और प्यार भी प्यार से नहीं मिलता है इस जमाने में, प्यार को पाने के लिए भी जमाने को झुकाना पड़ता है.
→ जमाने का काम है मुश्किलें खड़ी करना, और हमारा काम है मुश्किलों को पार करके जीत जाना.
अगर कोई व्यक्ति हमेशा मीठी बातें करता है, तो आपको इस बात पर जरूर गौर करना चाहिए कि उसकी कथनी और करनी में समानता है या नहीं. अगर कथनी और करनी में अंतर है, तो ऐसे व्यक्ति से दूरी हीं अच्छी है.
→ कथनी और करनी में अंतर तो ऐसे व्यक्ति से दूरी अच्छी
अपनी राह खुद बनाने वाले लोग तनाव मुक्त रहते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं