loading...

Kumar Vishwas – Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai (कुमार विश्वास – चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं)

Share:

Kumar Vishwas – Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai (कुमार विश्वास – चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं)



Kumar Vishwas - Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai
Kumar Vishwas
*****
Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai
Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai
Ye wahi purani rahe hai, ye din bhi wahi purane hai


Kuch tum bhooli, kuch mein bhoola, manjil fir se aasan hui
Hum mile achanak jaise fir, pehli pehli pehchan hui
Ankho ne fir se padhi aankhe, na shikve hai na taane hai
Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai
Tumne kaandhe par sir rakhkar, jab dekha fir se ek bar
Jud gaya purani veena ka, jo toot gaya thha ek taar
Fir wahi saaj dhadkan waala, fir wahi milan ke gaane hai
Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai


Aao hum dono ki saanso ka ek wahi aadhar rahe
Sapne, umide, pyas mite, bas pyar rahe bas pyar rahe
Bas pyar amar hai duniya me sab rishte aane jaane hai
Chehre par chanchal lat uljhi, Aankho me sapne suhane hai….

Kumar Vishwas
<—–Sab tamannayen hon poori, Koi khwaahish bhi rahe     Khud se bahut mein dur tha, Beshak zamana Paas tha —>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं
चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं
ये वही पुरानी राहें हैं, ये दिन भी वही पुराने हैं
कुछ तुम भूली कुछ मै भूला मंज़िल फिर से आसान हुई
हम मिले अचानक जैसे फिर पहली पहली पहचान हुई
आँखों ने पुनः पढी आँखें, न शिकवे हैं न ताने हैं
चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं
तुमने शाने पर सिर रखकर, जब देखा फिर से एक बार
जुड गया पुरानी वीणा का, जो टूट गया था एक तार
फिर वही साज़ धडकन वाला फिर वही मिलन के गाने हैं
चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं
आओ हम दोनो की सांसों का एक वही आधार रहे
सपने, उम्मीदें, प्यास मिटे, बस प्यार रहे बस प्यार रहे
बस प्यार अमर है दुनिया मे सब रिश्ते आने-जाने हैं
चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं ….
कुमार विश्वास
<—–सब तमन्नाएँ हों पूरी, कोई ख्वाहिश भी रहे       खुद से बहुत मैं दूर था, बेशक ज़माना पास था—>
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं