loading...

Kumar Vishwas – Sab tamannayen hon poori, Koi khwaahish bhi rahe (कुमार विश्वास – सब तमन्नाएँ हों पूरी, कोई ख्वाहिश भी रहे)

Share:

Kumar Vishwas – Sab tamannayen hon poori, Koi khwaahish bhi rahe (कुमार विश्वास – सब तमन्नाएँ हों पूरी, कोई ख्वाहिश भी रहे)


Kumar Vishwas - Sab tamannayen hon poori, Koi khwaahish bhi rahe
Kumar Vishwas
*****
Sab tamannayen hon poori, Koi khwaahish bhi rahe
Sab tamannayen hon poori, Koi khwaahish bhi rahe
Chahata wo hai, muhabbat mein numaaish bhi rahe


Aasman choome mere pankh teri rahmat se
Aur kisi ped ki daali par rihaaish bhi rahe
Usne saupa nahin mujhe mere hisse ka wajood
Uski koshish hai ki mujhse meri ranzish bhi rahe


Mujhko maloom hai mera hai wo main uska hoon
Uski chaahat hai ki rasmon ki ye bandish bhi rahe
Mausamon mein rahe Vishwas kuchh aese rishte
Kuchh adaawat bhi rahe thodi nawaazish bhi rahe


Kumar Vishwas
<—-Rooh jism ka thaur-thikana chalta rahta hai       Chehre par chanchal lat uljhi—->
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
सब तमन्नाएँ हों पूरी, कोई ख्वाहिश भी रहे
सब तमन्नाएँ हों पूरी, कोई ख्वाहिश भी रहे
चाहता वो है, मुहब्बत मे नुमाइश भी रहे
आसमाँ चूमे मेरे पँख तेरी रहमत से
और किसी पेड की डाली पर रिहाइश भी रहे
उसने सौंपा नही मुझे मेरे हिस्से का वजूद
उसकी कोशिश है की मुझसे मेरी रंजिश* भी रहे
मुझको मालूम है मेरा है वो मै उसका हूँ
उसकी चाहत है की रस्मों की ये बंदिश भी रहे
मौसमों मे रहे ‘विश्वास’ के कुछ ऐसे रिश्ते
कुछ अदावत* भी रहे थोडी नवाज़िश* भी रहे
* रंजिश – बुरी भावना, असहमति
* अदावत – दुशमनी
* नवाज़िश – दया, मेहरबानी
कुमार विश्वास
<—-रूह-जिस्म का ठौर-ठिकाना चलता रहता है       चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं—–>
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं