loading...

Kumar Vishwas – Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye (कुमार विश्वास – इस से पहले कि सजा मुझ को मुक़र्रर हो जाये)

Share:

Kumar Vishwas – Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye (कुमार विश्वास – इस से पहले कि सजा मुझ को मुक़र्रर हो जाये)


Kumar Vishwas - Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye
Kumar Vishwas
*****
Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye
Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye
un hansi zurmon ki jo sirf mere khwaab mein hain


Is se pahle ki mujhe rok le ye surkh subah
jis ke shaamon ke andhere mere aadaab mein hain
Apni yaadon se kaho chod de tanha mujh ko
main pareshaan bhi hoon aur khud mein gunahgaar bhi hoon


Itna ehsaan to jayaz hai meri jaan mujh par
main teri nafaraton ka pala hua pyar bhi hoon…
Kumar Vishwas


<—-Mujh mein kya hai siva tumhare?    Nayan hamare seekh rahe, hasna jhoothi baaton par –>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
इस से पहले कि सजा मुझ को मुक़र्रर हो जाये
इस से पहले कि सजा मुझ को मुक़र्रर हो जाये
उन हंसी जुर्मों कि जो सिर्फ मेरे ख्वाब में हैं
इस से पहले कि मुझे रोक ले ये सुर्ख सुबह
जिस कि शामों के अँधेरे मेरे आदाब में हैं
अपनी यादों से कहो छोड़ दें तनहा मुझ को
मैं परीशाँ भी हूँ और खुद में गुनाहगार भी हूँ
इतना एहसान तो जायज़ है मेरी जाँ मुझ पर
मैं तेरी नफरतों का पाला हुआ प्यार भी हूँ….
कुमार विश्वास
<—-मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे?       नयन हमारे सीख रहे हैं, हँसना झूठी बातों पर—>
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****
Tag – Famous, Shayari, Sher, Ghazal, Poetry, Poem, Kavita, Lyrics, Meaning in Hindi, Meaning of Urdu Words, प्रसिद्ध, शायरी, शेर, ग़ज़ल, पोयम, कविता, लिरिक्स

कोई टिप्पणी नहीं