loading...

Kumar Vishwas – Nayan hamare seekh rahe, hasna jhoothi baaton par (कुमार विशवास – नयन हमारे सीख रहे हैं, हँसना झूठी बातों पर)

Share:

Kumar Vishwas – Nayan hamare seekh rahe, hasna jhoothi baaton par (कुमार विशवास – नयन हमारे सीख रहे हैं, हँसना झूठी बातों पर)



Kumar Vishwas – Nayan hamare seekh rahe, hasna jhoothi baaton par
Kumar Vishwas
*****
Nayan hamare seekh rahe, hasna jhoothi baaton par
Sooraj par pratibandh anekon, aur bharosha raaton par
Nayan humare sikh rahe hai, hasna jhoothi baaton par


Humne jeevan ki chaisar par Daanv lagaaye aansson waale
Kuchh logon ne har pal, har chhin Mauke dekhe badle paale
Har shankit sach par apne, we mugdh swayam ki ghaaton par
Nayan hamare seekh rahe, hasna jhoothi baaton par


Kumar Vishwas
<—–Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye     Kya ajab raat thi, kya gajab raat thi—–>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
नयन हमारे सीख रहे हैं, हँसना झूठी बातों पर
सूरज पर प्रतिबन्ध अनेकों, और भरोसा रातों पर
नयन हमारे सिख रहे हैं, हँसना झूठी बातों पर
हमने जीवन की चैसर पर, दाँव लगाए आँसू वाले
कुछ लोगों ने हर पल, हर छिन मौके देखे बदले पाले
हर शंकित सच पर अपने, वे मुग्ध स्वयं की घातों पर
नयन हमारे सीख रहे हैं, हँसना झूठी बातों पर
कुमार विशवास
<—–इस से पहले कि सजा मुझ को मुक़र्रर हो जाये       क्या अजब रात थी, क्या गज़ब रात थी —–>
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं