loading...

Kumar Vishwas – Koi deewana kehta hai, koi pagal samjhta hai (कुमार विशवास – कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है)

Share:

Kumar Vishwas – Koi deewana kehta hai, koi pagal samjhta hai (कुमार विशवास – कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है)

Kumar Vishwas - Koi deewana kehta hai, koi pagal samjhta hai
Kumar Vishwas
*****
Koi deewana kahta hai, koi paagal samjhta hai
Koi deewana kahta hai, koi paagal samjhta hai
Magar dharti ki bechaini ko bas baadal samjhta hai
Main tujhse door kaisa hoon, tu mujhse dur kaisi hai
Ye tera dil samjhta hai ya mera dil samjhta hai


Mohabbat ek ehsaaso.n ki paawan si kahani hai
Kabhi Kabira deewana tha kabhi Meera deewani hai
Yaha.n sab log kahate hai, meri aankho.n mein aansoo.n hai.n
Jo tu samjhe to moti hai, jo na samjhe to paani hai
Samandar peer ka andar hai, lekin ro nahi sakta
Yah aansoo pyar ka moti hai, isko kho nahi sakta
Meri chaahat ko dulhan tu bana lena, magar sun le
Jo mera ho nahi paaya, wo tera ho nahi sakta


Bhramar koi kumuduni par machal baitha to hungama
Hamaare dil mein koi khwaab pal baitha to hungama
Abhi tak doob kar sunte the sab kissa mohabbat ka
Main kisse ko haqiqat mein badal baitha to hangama
Kumar Vishwas


<—–Main tumhe dhoondhne swarg ke dwar tak    Rang duniya ne dikhaaya hai niraala, dekhoon—–>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Muktak
*****
कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है
मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है
समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता
भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा
कुमार विशवास
<—–मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक           रंग दुनिया ने दिखाया है निराला, देखूँ—–>
कुमार विश्वास की कविता और मुक्तक का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं