loading...

Kumar Vishwas – Main tumhe dhoondhne swarg ke dwar tak (कुमार विश्वास – मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक)

Share:

Kumar Vishwas – Main tumhe dhoondhne swarg ke dwar tak (कुमार विश्वास – मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक)

Kumar Vishwas - Main tumhe dhoondhne swarg ke dwar tak
Kumar Vishwas
*****
Main tumhe dhoondhne swarg ke dwar tak
Main tumhe dhoondhne swarg ke dwar tak
Roz jaata raha, roz aata raha
Tum ghazal ban gai, geet mein dhal gai
Manch se main tumhe gungunaata raha


Zindgi ke sabhi raaste ek the
Sabki manjil tumhare chyan tak rahi
Aprakaashit rahe Peer ke upnishad
Man ki gopan kathaayen nayan tak rahi
Praan ke prashth par preeti ki alpana
Tum mitaati rahi main banaata raha
Ek khaamosh halchal bani zindgi
Gahara tahara hua jal bani zindgi
Tum bin jaise mahalo.n mein beeta hua
Urmila ka koi pal bani zindgi
Drashti akaash mein aas ka ik deeya
Tum bujhati rahi, main jalaata raha


Tum chali to gai, man akela hua
Saari yaado.n ka purjor mela hua
Jab bhi lauti nai khushbooyo.n se sazi
Man bhi bela hua, tan bhi bela hua
Khud ke aaghat par, vyrth ki baat par
Roothti tum rahi main manaata raha
Kumar Vishwas


<——-Andhere waqt mein bhi geet gaate jaayenge  Koi deewana kahta hai, koi paagal samjhta hai—–>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Muktak

*****
मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक
मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक
रोज़ जाता रहा, रोज़ आता रहा
तुम ग़ज़ल बन गईं, गीत में ढल गईं
मंच से मैं तुम्हें गुनगुनाता रहा
ज़िन्दगी के सभी रास्ते एक थे
सबकी मंज़िल तुम्हारे चयन तक रही
अप्रकाशित रहे पीर के उपनिषद्
मन की गोपन कथाएँ नयन तक रहीं
प्राण के पृष्ठ पर प्रीति की अल्पना
तुम मिटाती रहीं मैं बनाता रहा
एक ख़ामोश हलचल बनी ज़िन्दगी
गहरा ठहरा हुआ जल बनी ज़िन्दगी
तुम बिना जैसे महलों मे बीता हुआ
उर्मिला का कोई पल बनी ज़िन्दगी
दृष्टि आकाश में आस का इक दीया
तुम बुझाती रहीं, मैं जलाता रहा
तुम चली तो गईं, मन अकेला हुआ
सारी यादों का पुरज़ोर मेला हुआ
जब भी लौटीं नई ख़ुश्बुओं में सजीं
मन भी बेला हुआ, तन भी बेला हुआ
ख़ुद के आघात पर, व्यर्थ की बात पर
रूठतीं तुम रहीं मैं मनाता रहा
कुमार विश्वास
<——-अँधेरे वक्त में भी गीत गाये जायेंगे        कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है—–>
कुमार विश्वास की कविता और मुक्तक का संग्रह

*****

कोई टिप्पणी नहीं