loading...

Kumar Vishwas – Pagali Ladki (कुमार विश्वास – पगली लड़की)

Share:

Kumar Vishwas – Pagali Ladki (कुमार विश्वास – पगली लड़की)

Kumar Vishwas - Pagali Ladki

Kumar Vishwas
*****
Pagli Ladki
Mawas Ki Kaali Raaton Mein, Dil Ka Darwaja Khulta Hai,
Jab Dard Ki Kaali Raaton Mein Gum Ansoon Ke Sang GhultaHain,
Jab Pichwade Ke Kamre Mein Hum Nipat Akele Hote Hain,
Jab Ghadiyan Tik-Tik Chalti Hain, Sab Sote Hain, Hum Rote Hain,
Jab Baar Baar Dohrane Se Saari Yaadein Chuk Jaati Hain,
Jab Unch-Neech Samjhane Mein, Mathe Ki Nas Dukh Jaati Hain,
Tab Ek Pagli Ladki Ke Bin Jeena Gaddari Lagta Hai,
Aur Us Pagli Ladki Ke Bin Marna Bhi Bhari Lagta Hai.


Jab Pothe Khali Hote Hain, Jab Harf Sawali Hote Hain,
Jab Gazlen Raas Nahin Aatin, Afsane Gaali Hote Hain.
Jab Baasi Feeki Dhoop Sametein Din Jaldi Dhal Jaata Hai,
Jab Suraj Ka Laskhar Chhat Se Galiyon Mein Der Se Jaata Hai,
Jab Jaldi Ghar Jaane Ki Ichha Mann Hi Mann Ghut Jaati Hai,
Jab College Se Ghar Laane Waali Pahli Bus Chhut Jaati Hai,
Jab Beman Se Khaana Khaane Par Maa Gussa Ho Jaati Hai,
Jab Lakh Mana Karne Par Bhi Paaro Padhne Aa Jaati Hai,
Jab Apna Har Manchaha Kaam Koi Lachari Lagta Hai,
Tab Ek Pagli Ladki Ke Bin Jeena Gaddari Lagta Hai,
Aur Us Pagli Ladki Ke Bin Marna Bhi Bhari Lagta Hai.
Jab Kamre Mein Sannate Ki Awaj Sunai Deti Hai,
Jab Darpan Mein Aankhon Ke Neeche Jhai Dikhai Deti Hai,
Jab Badki Bhabhi Kahti Hain, Kuchh Sehat Ka Bhi Dhyan Karo,
Kya Likhte Ho Dinbhar, Kuchh Sapnon Ka Bhi Samman Karo,
Jab Baba Waali Baithak Mein Kuchh Rishte Waale Aate Hain,
Jab Baba Humein Bulate Hain, Hum Jaate Hain, Ghabrate Hain,
Jab Saari Pahne Ek Ladki Ka  Photo Laya Jaata Hai,
Jab Bhabhi Humein Manati Hain, Photo Dikhlaya Jaata Hai,
Jab Saare Ghar Ka Samjhana Humko Fankari Lagta Hai,
Tab Ek Pagli Ladki Ke Bin Jeena Gaddari Lagta Hai,
Aur Us Pagli Ladki Ke Bin Marna Bhi Bhari Lagta Hai.


Didi Kahti Hain Us Pagli Ladki Ki Kuchh Aukat Nahin,
Uske Dil Mein Bhaiya Tere Jaise Pyare Jajbat Nahin,
Woh Pagli Ladki Meri Khatir Nau Din Bhooki Rahti Hai,
Chup-Chup Saare Vrat Karti Hai, Par Mujhse Kuch Na Kahti Hai,
Jo Pagli Ladki Kahti Hai, Main Pyar Tumhi Se Karti Hoon,
Lekin Mein Hoon Majboor Bahut, Amma-Baba Se Darti Hoon,
Us Pagli Ladki Par Apna Kuchh Bhi Adhikar Nahin Baba,
Yeh Katha-Kahani Kisse Hain, Kuchh Bhi To Saar Nahin Baba,
Bas Us Pagli Ladki Ke Sang Jeena Fulwari Lagta Hai,
Aur Us Pagli Ladki Ke Bin Marna Bhi Bhari Lagta Hai.
Kumar Vishwas
<—–Best Muktak of Kumar Vishwas         Kumar Vishwas – Hungama—–>

 Collection of Kumar Vishwas Poetry and Muktak
*****
पगली लड़की
मावस  की  काली  रातों  में,  दिल  का  दरवाजा  खुलता  है ,
जब  दर्द  की काली रातों  में,  गम  आंसूं के  संग घुलता हैं ,
जब  पिछवाड़े  के  कमरे  में , हम  निपट  अकेले  होते  हैं ,
जब  घड़ियाँ  टिक -टिक  चलती  हैं , सब  सोते  हैं , हम  रोते  हैं ,
जब  बार  बार  दोहराने  से  , सारी  यादें  चुक  जाती  हैं ,
जब  उंच -नीच  समझाने  में , माथे  की  नस  दुःख  जाती  हैं ,
तब  एक  पगली  लड़की  के  बिन  जीना  गद्दारी लगता  है ,
और  उस  पगली  लड़की  के  बिन  मरना  भी  भारी  लगता  है .
जब  पोथे    खाली  होते  हैं , जब  हर्फ़ सवाली  होते  हैं ,
जब  ग़ज़लें  रास  नहीं  आतीं , अफसाने  गाली  होते  हैं .
जब  बासी  फीकी  धुप  समेटें , दिन  जल्दी  ढल  जाता  है ,
जब  सूरज  का  लश्कर , छत  से  गलियों  में  देर  से  जाता  है ,
जब  जल्दी  घर  जाने  की  इच्छा , मन  ही  मन  घुट  जाती  है ,
जब  कॉलेज  से  घर  लाने  वाली , पहली  बस  छुट  जाती  है ,
जब  बेमन  से  खाना  खाने  पर , माँ   गुस्सा  हो  जाती  है ,
जब  लाख  मन  करने  पर  भी , पारो  पढने  आ  जाती  है ,
जब  अपना  हर  मनचाहा  काम   कोई  लाचारी  लगता  है ,
तब  एक  पगली  लड़की  के  बिन  जीना  गद्दारी  लगता   है ,
और  उस   पगली  लड़की  के  बिन  मरना  भी  भारी  लगता  है
जब  कमरे  में  सन्नाटे  की  आवाज  सुनाई देती  है ,
जब  दर्पण  में  आँखों  के  नीचे  झाई  दिखाई  देती  है ,
जब  बड़की भाभी  कहती  हैं , कुछ  सेहत  का  भी  ध्यान  करो ,
क्या  लिखते  हो  दिनभर , कुछ  सपनों  का  भी  सम्मान  करो ,
जब  बाबा  वाली  बैठक  में  कुछ  रिश्ते  वाले  आते  हैं ,
जब  बाबा  हमें  बुलाते  हैं , हम  जाते  हैं , घबराते  हैं ,
जब  साड़ी  पहने  एक  लड़की  का  फोटो  लाया  जाता  है ,
जब  भाभी  हमें  मनाती  हैं , फोटो  दिखलाया  जाता  है ,
जब  सारे  घर  का   समझाना  हमको  फनकारी  लगता  है ,
तब  एक  पगली  लड़की  के  बिन  जीना  गद्दारी  लगता  है ,
और  उस  पगली  लड़की  के  बिन  मरना  भी  भारी  लगता  है
दीदी  कहती  हैं  उस  पगली  लड़की  की   कुछ  औकात  नहीं ,
उसके  दिल  में  भैया  , तेरे  जैसे  प्यारे  जज्बात   नहीं ,
वो पगली  लड़की मेरी खातिर  नौ  दिन  भूखी   रहती  है ,
छुप  -छुप  सारे  व्रत  करती  है , पर  मुझसे कुछ  ना  कहती  है ,
जो  पगली  लड़की  कहती  है , मैं  प्यार  तुम्ही  से  करती  हूँ ,
लेकिन  मै  हूँ  मजबूर  बहुत , अम्मा -बाबा  से  डरती  हूँ ,
उस  पगली  लड़की  पर  अपना  कुछ भी अधिकार  नहीं  बाबा ,
ये   कथा -कहानी   किस्से  हैं , कुछ  भी  तो  सार  नहीं  बाबा ,
बस  उस  पगली  लड़की  के  संग   जीना  फुलवारी  लगता  है ,
और  उस  पगली  लड़की  के   बिन  मरना  भी  भारी  लगता  है।
कुमार विश्वास
<—–कुमार विश्वास के प्रशिद्ध मुक्तक         कुमार विश्वास – हंगामा—–>
कुमार विश्वास की कविताओं और मुक्तकों का संग्रह

कोई टिप्पणी नहीं