loading...

Kumar Vishwas – Hungama (कुमार विश्वास – हंगामा)

Share:

Kumar Vishwas – Hungama (कुमार विश्वास – हंगामा)

Kumar Vishwas - Hungama
Kumar Vishwas
*****
HUNGAMA
Huye paida to dharti par hua aabad hungama
Jawani ko humari kar gaya barbaad hungama
Humare bhaal par takdeer ne ye likh diya jaise
Humare saamne hai aur humare baad hungama


Bhramar koi kumudini par machal baitha to hungama
Humare dil mein koi khwaab pal baitha to hungama
Abhi tak doob kar sunte the sab kissa mohabbat ka
Main kisse ko hakikat mein badal baitha to hungama
Kabhi koi jo khulkar hans liya do pal to hungama
koi khwaabon mein aakar bas liya do pal to hungama
Main us se door tha to shor tha saazish hai, saazish hai
Use baahon mein khulkar kas liya do pal to hungama


Jab aata hai jeewan mein khayalaaton ka hungama
Ye jajbaaton mulakaaton hansi raaton ka hungama
Jawani ke kayaamat daur mein ye sochte hain sab
Ye hungame ki baate hain ya hain baaton ka hungama
Kalam ko khoon mein khud ke dubota hoon to hungama
Girebaan apna aansoo mein bhigota hoon to hungama
Jo mujh par bhi nahi khud ki khabar wo hai zamane par
Main hansta hoon to hungama main rota hoon to hungama


Ibarat se gunaaho tak ki manzil mein hai hungama
Zara si pee ke aaye to bas mehfil mein hai hungama
Kabhi bachpan jawani aur budhape mein hai hungama
Zehan mein hai kabhi to fir kabhi dil mein hai hungama
Kumar Vishwas


<—–Kumar Vishwas – Pagli Ladki             Main to jhonka hoon hawa ka udaa le jaunga—–>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Muktak
*****
हंगामा
हुए पैदा तो धरती पर हुआ आबाद हंगामा
जवानी को हमारी कर गया बर्बाद हंगामा
हमारे भाल पर तकदीर ने ये लिख दिया जैसे
हमारे सामने है और हमारे बाद हंगामा
भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत का
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा
कभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामा
कोई ख़्वाबों में आकर बस लिया दो पल तो हंगामा
मैं उससे दूर था तो शोर था साजिश है , साजिश है
उसे बाहों में खुलकर कस लिया दो पल तो हंगामा
जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा
ये जज्बातों, मुलाकातों हंसी रातों का हंगामा
जवानी के क़यामत दौर में यह सोचते हैं सब
ये हंगामे की रातें हैं या है रातों का हंगामा
कलम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा
गिरेबां अपना आंसू में भिगोता हूँ तो हंगामा
नही मुझ पर भी जो खुद की खबर वो है जमाने पर
मैं हंसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा
इबारत से गुनाहों तक की मंजिल में है हंगामा
ज़रा-सी पी के आये बस तो महफ़िल में है हंगामा
कभी बचपन, जवानी और बुढापे में है हंगामा
जेहन में है कभी तो फिर कभी दिल में है हंगामा
कुमार विश्वास
<——कुमार विश्वास – पगली लड़की             मैं तो झोंका हूँ हवा का उड़ा ले जाऊँगा—–>
कुमार विश्वास की कविताओं और मुक्तकों का संग्रह

*****

कोई टिप्पणी नहीं