loading...

Kumar Vishwas – Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe (कुमार विश्वास – उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे)

Share:

Kumar Vishwas – Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe (कुमार विश्वास – उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे)

Kumar Vishwas - Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe
Kumar Vishwas
*****
Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe
Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe
Wo mera hone se jyada mujhe pana chahe


Meri palko.n se fisal jaata hai chehara tera
Ye musafir to koi aur thikana chahe
Ek banfool tha is shahar mein wo bhi na raha
Koi ab kis ke liye laut ke aana chahe


Zindgi hasrato.n ke saaz pe sahma-sahma
Wo tarana hai jise dil nahi gaana chahe
Ham apne aap se kuchh is tarah hue rukhsat
Sans ko chhod diya jis taraf jaana chahe


Kumar Vishwas
<—–Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai    Tumhare khawab bhi tum jaise shaatir nikle—->
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे
उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे
वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे
मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा
ये मुसाफिर तो कोई और ठिकाना चाहे
एक बनफूल था इस शहर में वो भी ना रहा
कोई अब किस के लिए लौट के आना चाहे
ज़िन्दगी हसरतों के साज़ पे सहमा-सहमा
वो तराना है जिसे दिल नहीं गाना चाहे
हम अपने आप से कुछ इस तरह हुए रुखसत
साँस को छोड़ दिया जिस तरफ जाना चाहे
कुमार विश्वास
<—–पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है       तुम्हारे ख्वाब भी तुम जैसे ही शातिर निकले—->
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं