loading...

Kumar Vishwas – Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai (कुमार विश्वास – पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है)

Share:

Kumar Vishwas – Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai (कुमार विश्वास – पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है)

Kumar Vishwas - Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai
Kumar Vishwas
*****
Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai
Toofani lahare.n ho.n
Ambar ke pahre ho.n
Purva ke daaman par daag bahut gahare ho.n
Saagar ke maanjhi mat man ko too haarna
Jeevan ke kram mein jo khoya hai, paana hai
Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai


Raajvansh ruthe to
Raajmukut toote to
Seetapati-raaghav se raajmahal chhute to
Aasha mat haar, paar saagar ke ek baar
Patthar mein praan phoonk, setu phir banaana hai
Patjhar ka matlab hai phir basant aana hai
Ghar bhaar chaahe chhode
Sooraj bhi munh mode
Vidur rahe maun, chhine raajy, swarnrath, ghode
Maa ka bas pyar, saar Geeta ka saath rahe
Panchtatv sau par hai bhaari, batlaana hai
Jeevan ka raajsooy yag phir karaana hai
Patjhar ka matlab hai phir basant aana hai


Kumar vishwas
<—–Bansuri chali aao, honth ka nimantran hai    Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe—->
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है
तूफ़ानी लहरें हों
अम्बर के पहरे हों
पुरवा के दामन पर दाग़ बहुत गहरे हों
सागर के माँझी मत मन को तू हारना
जीवन के क्रम में जो खोया है, पाना है
पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है
राजवंश रूठे तो
राजमुकुट टूटे तो
सीतापति-राघव से राजमहल छूटे तो
आशा मत हार, पार सागर के एक बार
पत्थर में प्राण फूँक, सेतु फिर बनाना है
पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है
घर भर चाहे छोड़े
सूरज भी मुँह मोड़े
विदुर रहे मौन, छिने राज्य, स्वर्णरथ, घोड़े
माँ का बस प्यार, सार गीता का साथ रहे
पंचतत्व सौ पर है भारी, बतलाना है
जीवन का राजसूय यज्ञ फिर कराना है
पतझर का मतलब है, फिर बसंत आना है
कुमार विश्वास
<—–बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है     उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे—->
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं