loading...

Rahat Indori – Bulati hai magar jaane ka nai (राहत इन्दौरी – बुलाती है मगर जाने का नईं)-aakhir kyon

Share:

Rahat Indori – Bulati hai magar jaane ka nai (राहत इन्दौरी – बुलाती है मगर जाने का नईं)

Rahat Indori - Bulati hai magar jaane ka nai
Rahat Indori
*****
Bulati hai magar jaane ka nai
Bulati hai magar jaane ka nai
Ye duniya hai idhar jaane ka nai
Mere bete kisi se ishq kar
Magar had se gujar jaane ka nai
Sitare noch kar le jaaunga
Mein khali haath ghar jaane waala nai
Waba feli hui hai har taraf
Abhi maahol mar jaane ka nai
Wo gardan naapta hai, naap le
Magar jaalim se dar jaane ka nai
Rahat Indori
<—-Kashti tera naseeb chamkdaar kar diya      Andar ka zahar choom liya, dhul ke aa gaye—–>
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari
*****
बुलाती है मगर जाने का नईं
बुलाती है मगर जाने का नईं *
ये दुनिया है इधर जाने का नईं
मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुजर जाने का नईं
सितारें नोच कर  ले जाऊँगा
में खाली हाथ घर जाने का  नईं
वबा* फैली हुई है हर तरफ
अभी माहौल मर जाने का नईं
वो गर्दन नापता है नाप ले
मगर जालिम से डर जाने का नईं
*नईं – नईं का मतलब पुरानी उर्दू में नहीं होता है
*वबा  – महामारी
राहत इन्दौरी
<–कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया              अंदर का ज़हर चूम लिया, धूल के आ गए—–>
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं