loading...

Rahat Indori – Samandaron me muaafik hawa chalaata hain (राहत इन्दौरी – समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है)-AAKHIR KYON

Share:

Rahat Indori – Samandaron me muaafik hawa chalaata hain (राहत इन्दौरी – समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है)

Rahat Indori - Samandaron me muaafik hawa chalaata hain

Rahat Indori
*****
Samandaron me muaafik hawa chalaata hain
Samandaron me muaafik hawa chalaata hain
Jahaaj khud nahi chalte khuda chalaata hain


Ye ja ke meel ke patthar pe koi likh aaye
Wo hum nahi hain, jinhe rastaa chalaataa hain
Wo paanch waqt nazar aata hain namaazon me
Magar suna hian sab ko jua chalaataa hain


Ye log paanv nahi jehan se apaahij hain
Udhar chalenge jidhar rahnuma chalaataa hain
Hum apne boodhe chiraagon pe khub itraay
Aur usko bhul gaye jo hawa chalaataa hain


Rahat Indori
<—–Andar ka zahar choom liya, dhul ke aa gaye      Uski katthai aankhon me hain jantar-mantar sab——->
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari
*****
समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है
समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है
जहाज़ खुद नहीं चलते खुदा चलाता है
ये जा के मील के पत्थर पे कोई लिख आये
वो हम नहीं हैं, जिन्हें रास्ता चलाता है
वो पाँच वक़्त नज़र आता है नमाजों में
मगर सुना है कि शब को जुआ चलाता है
ये लोग पांव नहीं जेहन से अपाहिज हैं
उधर चलेंगे जिधर रहनुमा चलाता है
हम अपने बूढे चिरागों पे खूब इतराए
और उसको भूल गए जो हवा चलाता है
राहत इन्दौरी 
<—–अंदर का ज़हर चूम लिया, धूल के आ गए           उसकी कत्थई आँखों में हैं जंतर मंतर सब —->
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं