loading...

Rahat Indori – Intezamat naye sire se sambhale jayen (राहत इन्दौरी – इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ)-AAKHIR KYON

Share:

Rahat Indori – Intezamat naye sire se sambhale jayen (राहत इन्दौरी – इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ)


Rahat Indori - Intezamat naye sire se sambhale jayen
Rahat Indori
*****
Intezamat naye sire se sambhale jayen
 Intezamat naye sire se sambhale jayen
Jitane kamzarf hain mehafil se nikale jayen

Mera ghar ag ki lapaton may chupa hia lekin
Jab maza hai tere angan may ujale jayen
Gam salamat hai to pite hi rahenge lekin
Pehale maikhane ki halat sambhale jayen

Khali waqton may kahin baith ke rolen yaro
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen
Khak may yun na mila zabt ki tauhin na kar
Ye wo ansun hain jo duniya ko baha le jayen

Ham bhi pyase hain ye ehasas to ho saqi ko
Khali shishe hi hawaon may uchale jayen
Ao shahr may naye dost banayen quot;rahat quot;
Astinon may chalo saanp hi pale jayen

Rahat Indori
<—–Roz taaron ko numaaish main khalal padta hai          Kashti tera naseeb chamkdaar kar diya—–>
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari
*****
इन्तेज़ामात  नए सिरे से संभाले जाएँ
इन्तेज़ामात  नए सिरे से संभाले जाएँ
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ
मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ
गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए
खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए
खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ
हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए
आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए
राहत इन्दौरी 
<——रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं            कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया —–>
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं