loading...

Rahat Indori – Log har mor pe ruk ruk ke sambhalate kyon hain (राहत इन्दौरी – लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है)

Share:

Rahat Indori – Log har mor pe ruk ruk ke sambhalate kyon hain (राहत इन्दौरी – लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है)



Rahat Indori - Log har mor pe ruk ruk ke sambhalate kyon hain
Rahat Indori
*****
Log har mor pe ruk ruk ke sambhalate kyon hain
  Log har mor pe ruk ruk ke sambhalate kyon hain
Itana darate hain to phir ghar se nikalate koun hain

Main na juganu hun diya hun na koi tara hun
Raushani wale mere nam se jalate kyon hain
Nind se mera ta`alluq hi nahi barason se
Khwab a a ke meri chat pe tahalate kyon hain

Mor hota hai jawani ka sambhalane ke liye
Aur sab log yahin ake phisalate kyon hai
Rahat Indori

Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe—->
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari

*****
लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है
लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है
इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यों है
मैं ना जुगनू हूँ दिया हूँ ना  कोई तारा हूँ
रौशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं
नींद से मेरा ताल्लुक ही नहीं बरसों से
ख्वाब आ – आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं
मोड़ तो होता हैं जवानी का संभलने के लिये
और सब लोग यही आकर फिसलते क्यों हैं
राहत इन्दौरी 
सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे—–>
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं