loading...

Rahat Indori – Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe (राहत इन्दौरी – सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे)

Share:

Rahat Indori – Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe (राहत इन्दौरी – सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे)


Rahat Indori - Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe
Rahat Indori
*****
Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe
Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe
Chale chalo ke jahan tak ye asman rahe

Ye kya uthaye kadam aur aa gai manzil
Maza to jab hain ke pairon may kuch thakan rahe
Wo shakhs mujh ko koi jalsaz lagata hain
Tum us ko dost samajhate ho phir bhi dhyan rahe
Mujhe zamin ki geharaion ne dab liya
Main chahata tha mere sar pe aasman rahe
Ab apane bich marasim nahi adawat hai
Magar ye bat hamare hi darmiyan rahe

sitaron ki faslen uga saka na koi
Meri zamin pe kitane hi asman rahe
Wo ek sawal hain phir us ka samana hoga
Dua karo ke salamat meri zaban rahe

Rahat Indori
<—–Log har mor pe ruk ruk ke sambhalate kyun hain            Dosti jab kisi se ki jaye ——>
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari
*****
सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान  रहे
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे
वो शख्स मुझ को कोई जालसाज़ लगता हैं
तुम उसको दोस्त समझते हो फिर भी ध्यान रहे
मुझे ज़मीं की गहराइयों ने दबा लिया
मैं चाहता था मेरे सर पे आसमान रहे
अब अपने बिच मरासिम नहीं अदावत है
मगर ये बात हमारे ही दरमियाँ रहे
सितारों की फसलें उगा ना सका कोई
मेरी ज़मीं पे कितने ही आसमान रहे
वो एक सवाल है फिर उसका सामना होगा
दुआ करो की सलामत मेरी ज़बान रहे
राहत इन्दौरी हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है              दोस्ती जब किसी से की जाये——>
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं