loading...

Rahat Indori – Ye zindagi sawaal thi jawab mangne lage (राहत इन्दौरी – ये ज़िन्दगी सवाल थी जवाब माँगने लगे)-AAKHIR KYON

Share:

Rahat Indori – Ye zindagi sawaal thi jawab mangne lage (राहत इन्दौरी – ये ज़िन्दगी सवाल थी जवाब माँगने लगे)

Rahat Indori - Ye zindagi sawaal thi jawab mangne lage

Rahat Indori
*****
Ye zindagi sawaal thi jawab mangne lage
Ye zindagi sawaal thi jawab mangne lage
Fariste aake khwaab me hisaab mangne lage


Idhar kiya karam kisi pe aur idhar jata diya
Namaz padh ke aaye aur sharab mangne lage
Sukhnavron ne khud bana diya sukhan ko ek mazaak
Jara si daad kya mili khitaab mangene lage


dikhai jane kya diya he jugnuo ko khwaab me
khuli hai jabse aankh aftab mangne lage..
Rahat Indori


<—–Teri har baat mohabbat me gawara karke   Kitni pi kaise kati raat mujhe hosh nahin—–>
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari

*****
ये ज़िन्दगी सवाल थी जवाब माँगने लगे
ये ज़िन्दगी सवाल थी जवाब माँगने लगे
फरिश्ते आ के ख़्वाब मेँ हिसाब माँगने लगे
इधर किया करम किसी पे और इधर जता दिया
नमाज़ पढ़के आए और शराब माँगने लगे
सुख़नवरों ने ख़ुद बना दिया सुख़न को एक मज़ाक
ज़रा-सी दाद क्या मिली ख़िताब माँगने लगे
दिखाई जाने क्या दिया है जुगनुओं को ख़्वाब मेँ
खुली है जबसे आँख आफताब माँगने लगे
राहत इन्दौरी 
<—–तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा करके         कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं है—>
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं