loading...

अविनासी अविनासी मनै तो तेरे-Kabir Ke Shabd-avinaasi avinaasi manai to tere,

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द
अविनासी अविनासी मनै तो तेरे,
नाम का भरोसा अविनासी।

जंतर ना जानूँ दाता मन्त्र ना जानूँ,
नहीं पढ़ा कदे कांसी।

इस दुनिया में दाता भाव नहीं है जी,
काटो यमां की फांसी।।

हम दासों की रखना लाज जगत में,
मतना कराइयो म्हारी हांसी।।

धर्म किया न कोए कर्म बनाया,
साधु हुआ ना सन्यासी।।

ऊंचे-२ पर्वत दाता भींचवां सी घाटी,
सन्त कोए विरला जन जासी।।

जीता के सतगुरु घीसा कहावे,
अगमपुरी के वासी।।