loading...

जायगा हंस अकेला,तुं रामनाम रट भाई रे-Kabir Ke Shabd-jaaygaa hans akelaa,tun raamnaam rat bhaai re।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द
जायगा हंस अकेला,तुं रामनाम रट भाई रे।
झूठा ये जगत झमेला तुं रामनाम।।
सोच समझ इंसान बावले, काया का करे न गुमान बावले
तन माटी का ढेला।।

पल में वो तेरा घमण्ड तोड़ दे ,माया की तुं बावले मरोड़ छोड़ दे।
तेरे साथ न जावे धेला।।

रामनाम सुखदाई रे, तेरै क्यूंना समझ मे आई रे।
दो दिन का जग में मेला।

मुक्ति का कोई जतन करले,ईश संग तुं राम सुमरले।
तुं बनजा भक्त अलबेला।।

कोई टिप्पणी नहीं