loading...

कबीर तजो अविधा नींद। 296

Share:

    तजो अविधा निंन्द इबतो, जाग जा  न तूँ।
तूँ दाग जिगर का धोले, दिन दिन घटता आवै भोले।
            किसी वैद्य हकीम ने टोहले,
                             जल्दी भाग जा न तूँ।।
पी के राम नाम की भंग ने, चढ़ जा नशा देखले रंग ने।
            तूँ तजदे नियत कुसंग ने
                              बिलकुल त्याग जा न तूँ।।
मन प्रधान पाँच हैं नारी, दिन भर होती फिरें खंवारी।
            सत्संग में डट जा सारी,
                               नेड़े लाग जा न तूँ।।
कहहरिदास रहो मतखाली जग में करले तूँ धर्म दलाली।
             सत्त की भर ले रफल दुनाली
                               बेशक दाग जा न तूँ।।

कोई टिप्पणी नहीं