loading...

बन्दे हरि का गुण ना गाया, तनै वृथा ए जन्म गंवाया-Kabir Ke Shabd-bande hari kaa gun naa gaayaa, tanai vrithaa aye janm ganvaayaa।।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
बन्दे हरि का गुण ना गाया, तनै वृथा ए जन्म गंवाया।।
तेरा गर्भ बीच था वासा, ला रहा था हरि में आशा।
जो वादा करके आया, दुनिया में आके भुलाया।।

राखी दिल में वैर भावना, तेरी पूरी हुई ना कामना।
बन्दे विषयों में भरमाया, ना जोड़ कतई तनै लाया।।

तनै कर्म करा सब खोटा, तेरै हरि नाम का टोटा।
तनै ठग रही ठगनी माया, तेरे बाहर ने जाल बिछाया।।

कह सुरेश मन्डोले आले, तूँ ध्यान हरि में लाले।
तेरी माटी में मिलजा काया, सब रहजा धरा धराया।।

कोई टिप्पणी नहीं