loading...

हे सुरतां दिये नींद नशे ने त्याग, महल मर चोरी होगी हे-Kabir Ke Shabd-he surtaan diye nind nashe ne tyaag, mahal mar chori hogi he

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द

हे सुरतां दिये नींद नशे ने त्याग, महल मर चोरी होगी हे
हे एक चोर बताया क्रोधी, छोड़े ना मानस में शोद्धि।
हे सुरतां ला दे सै बदन में आग।।

हे एक चोर घणा अहंकारी, हे पल में बन बैठे पन्सारी।
हे सुरतां यो सारां तैं निरभाग।।

कृष्ण लाल हरि गुण गाले, राम नाम की तेग उठाले।
हे सुरतां जै जाग्या जा तै जाग।।

कोई टिप्पणी नहीं