loading...

Kumar Vishwas – Bansuri chali aao, honth ka nimantran hai (कुमार विश्वास – बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है)

Share:

Kumar Vishwas – Bansuri chali aao, honth ka nimantran hai (कुमार विश्वास – बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है)

Kumar Vishwas - Bansuri chali aao, honth ka nimantran hai
Kumar Vishwas
*****
Bansuri chali aao, honth ka nimantran hai
Tum agar nahi.n aai geet gaa na paaunga
Saans saath chhodegi, sur saza na paaunga
Taan bhaavna ki hai shabd-shabd darpan hai
Baansuri chali aao, honth ka nimantran hai


Tum bin hatheli ki har laqir pyaasi hai
Teer paar Kanha se door Raadhika si hai
Raat ki udaasi ko yaad sang khela hai
Kuchh galat na kar baithe man bahut akela hai
Aushadhi chali aao chot ka nimantran hai
Baansuri chali aao, honth ka nimantran hai
Tum alag hui mujhse saans ki khataao se
Bhookh ki daleelo.n se waqt ki sazaao.n se
Dooriyo.n ko maalum hai dard kaise sahana hai
Aankh laakh chaahe par honth se na kahana hai
Kanchan kasauti ko khot ka nimantran hai
Baansuri chali aao, honth ka nimantran hai


Kumar Vishwas
<—–Kuchh chhote sapno ke badle     Patjhad ka matlab hai phir basant aana hai—–>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है
तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगा
साँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगा
तान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण है
बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है
तुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी है
तीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी है
रात की उदासी को याद संग खेला है
कुछ गलत ना कर बैठें मन बहुत अकेला है
औषधि चली आओ चोट का निमंत्रण है
बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है
तुम अलग हुई मुझसे साँस की ख़ताओं से
भूख की दलीलों से वक्त की सज़ाओं से
दूरियों को मालूम है दर्द कैसे सहना है
आँख लाख चाहे पर होंठ से न कहना है
कंचना कसौटी को खोट का निमंत्रण है
बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है
कुमार विश्वास
<—–कुछ छोटे सपनो के बदले , बड़ी नींद का सौदा करने       पतझर का मतलब है फिर बसंत आना है—–>
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं