loading...

Kumar Vishwas Latest Shayari Part 4 (कुमार विश्वास लेटेस्ट शयरी भाग 4 )

Share:

Kumar Vishwas Latest Shayari Part 4 (कुमार विश्वास लेटेस्ट शयरी भाग 4 )


Kumar Vishwas Latest Shayari
Kuamr Vishwas

Kumar Vishwas Latest Shayari Part 4

*****
31
होली के अवसर  कृष्ण और राधा पर लिखी एक मुक्तक
सखियों संग रंगने की धमकी सुनकर क्या डर जाऊँगा?
तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा,
भींग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत सी,
इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना, मर जाऊँगा!


Sakhiyon santg rangne ki dhamki sunkar kya dar jaaunga?
Teri gali mein kya hoga ye maaloom hai par aaunga,
Bheeg rahi hai kaaya saari khajuraahon ki moorat si,
Is darshan ka aur pradarshan mat karna, mar Jaaunga.


*****
32
उम्मीदों का फटा पैरहन,
रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है,
तुम से मिलने की कोशिश में,
किस-किस से मिलना पड़ता है….
Ummidon ka phata paiharan,
Roz-roz silna padata hai,
Tum se mile ki koshish mein,
Kis kis se milna padta hai……
*****
33
फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है,
ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है,
अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,
कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि ‘रौशनाई’ है…..
Phalak pe bhor ki dulhan yoon saz ke aai hai,
Ye din ugaa hai ya sooraj ke ghar sagaai hai,
Abhi bhi aate hai aansoon meri kahani mein,
Kalam mein shukrae-khuda hai ki Raushnaai hai……
*****
34
घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे,
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है,
दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा….
Ghar se nikala hoon to nikala hai ghar bhi saath mere
Dekhna ye hai ki manjil pe kaun pahunchega ?
Meri kashti mein bhawar baandh ke duniya khush hai,
Duniya dekhegi ki saahil pe kaun pahunchega…
*****
35
उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे
वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे
मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा
ये मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे
Usi ki taraha mujhe saara zamaana chaahe
Wo mera hone se jyaada mujhe paana chaahe
Meri palkon se fisal jaata hai chehara tera
Ye musafir to koi thikana chaahe
*****
36
हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है,
हम चिरागों की इन हवाओं से,
कोई तो जा के बता दे उस को,
चैन बढता है बद्दुआओं से…
Himate-e-raushani badh jaati hai ,
Hum chiraagon ki in hawaaon se,
Koi to jaa ke bata de us ko,
Chain badhta hai badduaaon se …
*****
37
क़लम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा,
गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हंगामा,
नहीं मुझ पर भी जो खुद की ख़बर वो है ज़माने पर,
मैं हँसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा…
Kalam ko khoon mein khud ke dubota hoon to hungama,
Gireban apna aansoon mein bhigota hoon to hungama,
Nahin mujh par bhi jo khud ki khabar wo hai zamaane par,
Main hansta hoon to hungama, main rota hoon to hungama
*****
38
तुम अमर राग-माला बनो तो सही,
एक पावन शिवाला बनो तो सही,
लोग पढ़ लेंगे तुम से सबक प्यार का,
प्रीत की पाठशाला बनो तो सही…
Tum amar raag-mala bano to sahi,
Ek paawan shiwala bano to sahi,
Log padh lenge tum se sabak pyaar ka,
Preet ki paathshaala bano to sahi….
*****
39
चंद चेहरे लगेंगे अपने से ,
खुद को पर बेक़रार मत करना ,
आख़िरश दिल्लगी लगी दिल पर?
हम न कहते थे प्यार मत करना…
Chand chehare lagenge apne se,
Khud ko bekaraar mat karna,
Aakhrish dillagi lagi dil par?
Hum na kahte the pyar mat karna…
*****
40
बदलने को तो इन आखोँ के मंज़र कम नहीं बदले ,
तुम्हारी याद के मौसम,हमारे ग़म नहीं बदले ,
तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी,तब तो मानोगी ,
ज़माने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले…….

Badalne ko in aankhon ke manjar kam nahi badal,
Tumhaari yaad ke mausam, humare gham nahin badle,
Tum agale janm mein hum se milogi, tab to manogi,
Zamaane aur sadi ki is badal mein hum nahin badale…
Kumar Vishwas

*****
Part 1    Part 2    Part 3    Part 4
*****

कोई टिप्पणी नहीं