loading...

Rahat Indori – Dosti jab kisi se ki jaye (राहत इन्दौरी – दोस्ती जब किसी से की जाये)

Share:

Rahat Indori – Dosti jab kisi se ki jaye (राहत इन्दौरी – दोस्ती जब किसी से की जाये)

Rahat Indori - Dosti jab kisi se ki jaye
Rahat Indori
*****
Dosti jab kisi se ki jaye
Dosti jab kisi se ki jaye
Dushmanon ki bhi raye li jaye

Maut ka zahar hai fizaon may
Ab kahan ja ke sans li jaye
Bas isi soch may hun duba hua
Ye nadi kaise par ki jaye

Mere mazi ke zakhm bharane lage
Aj phir koi bhul ki jaye
Botalen khol ke to pi barason
Aj dil khol ke bhi pi jaye

Rahat Indori
<—-Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe   Roz taaron ko numaaish main khalal padta hai—->

Collection of Rahat Indori Shayari
*****
दोस्ती जब किसी से की जाये
दोस्ती जब किसी से की जाये
दुश्मनों की भी राय ली जाए
मौत का ज़हर हैं फिजाओं में
अब कहा जा के सांस ली जाए
बस इसी सोच में हु डूबा हुआ
ये नदी कैसे पार की जाए
मेरे माजी के ज़ख्म भरने लगे
आज फिर कोई भूल की जाए
बोतलें खोल के तो पि बरसों
आज दिल खोल के पि जाए
राहत इन्दौरी
<—–सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे          रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं —–>
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह

*****

कोई टिप्पणी नहीं