loading...

दुनिया से हम हारे, तो आए तेरे द्वार-Kabir Ke Shabd-duniyaa se ham haare, to aaa tere dvaar।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
दुनिया से हम हारे, तो आए तेरे द्वार।
यहां से गर जो हारे, कहां जाएंगे सरकार।
दुनिया से मैं हारा, तो आया तेरे द्वार।
यहां से गर जो हारा, कहाँ जाऊँगा सरकार।।

सुख में गुरू जी तेरी याद न आई,
दुःख में पृभु जी तुमसे प्रीत लगाई।
सारा दोष है मेरा मैं करता हूं स्वीकार।।

मेरा क्या है मैं तो, पहले से हारा,
तुमसे ही पूछेगा सँसार सारा।
डूब गई क्यों नैया तेरे रहते खेवन हार।।

सबकुछ लुटा बस लाज बची है,
तुम पे ही बाबा बस आश बंधी है।
सुना है तुम सुनते हो, हम जैसों की पुकार।।

जिसको बताया मैनें अपना फसाना,
सबने बताया हमको तेरा ठिकाना।
मैने तुमको माना, मातपिता परिवार।।

कोई टिप्पणी नहीं