loading...

सुन गंगाराम पिंजरा पुराना तेरा हो गया-Kabir Ke Shabd-sun gangaaraam pinjraa puraanaa teraa ho gayaa।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
सुन गंगाराम पिंजरा पुराना तेरा हो गया।
जब तक हंस रहा पिंजरे में, तबतक पिंजरा हरा रहा।
उड़ गया हंस पिंजरा खाली, बोलन आला निकल गया।।

पांच सात रल मता उपाया, गठरी ठठरी बांध लिया।
चार जने कंधे पे धरके, जंगल बासा करा दिया।
डाल चिता में काठ चिणा, फिर पावक उसमे लगा दिया।।

फूंक फांक के चले कुटुम्बी, भुगतेगा फल एक जिया।
जलमे जल मिट्टी में मिट्टी, सांस पवन में मिला दिया।
कह कबीर सुनो भई साधो, सब रचना को छोड़ दिया।।

कोई टिप्पणी नहीं